About

xksaMh Hkk”kk xksaMokuk lkezkT; dh ekr`Hkk”kk gSA xksaMh Hkk”kk vfr çkphu Hkk”kk gksus ds dkju vusd ns’kh &fon’kh Hkk”kkvksa dh tuuh jgh gSA xksaMh /keaZ n’kZu ds vuqlkj xksaMh Hkk”kk dk fuekZ.k vkjk/; nso ‘kEHkw ‘ksd ds Me: ls gqbZ gS] ftls xks,Unkf/k ok.kh ;k xksanokuh dgk tkrk gSA vfr çkphu Hkk”kk gksus dh otg ls xksaMh Hkk”kk vius vki esa iwjh rjg ls iw.kZ gSA xksaMh Hkk”kk dh viuh fyfi gS] O;kdj.k gS ftls le;≤ ij xksaMh lkfgR;dkjksa us iqLrdksa ds ek/;e ls çdkf’kr fd;k gSA xksaMokuk lkezkT; ds oa’ktks dks viuh Hkk”kk fyfi dk Kku gksuk vfr vko’;d gSA Hkk”kk lekt dh ek¡ gksrh gS] blfy, bls “ekr`Hkk”kk” ds :i esa vknj Hkh fn;k tkrk gSA xksaMh;u lekt dh viuh ekr`Hkk”kk xksaMh gS] ftls vknj vkSj lEeku ls Hkfo”;fuf/k ds :i esa lap; djuk pkfg,AxksaMksa dk çns’k xksaMokuk ds uke ls Hkh çfl) gS tgk¡ 15oha rFkk 17oha ‘krkCnh ds chp xksaM jktoa’kksa ds ‘kklu LFkkfir FksA fdarq xksaMksa dh fNViqV vkcknh leLr e/;çns’k esa gSA mM+hlk] vka/kz vkSj fcgkj jkT;ksa esa ls çR;sd esa nks ls ysdj pkj yk[k rd xksaM gSaA vle ds pk; cxhpksaokys {ks= esa 50 gtkj ls vf/kd xksaM vkckn gSaA buds vfrfjä egkjk”Vª vkSj jktLFkku ds dqN {ks=ksa esa Hkh xksaM vkckn gSaA xksaMksa dh dqy vkcknh 30 ls 40 yk[k ds chp vk¡dh tkrh gS] ;|fi lU‌ 1941 dh tux.kuk ds vuqlkj ;g la[;k 25 yk[k gSA bldk dkj.k ;g gS fd vusd xksaM tkfr;k¡ vius dks fganw tkfr;ksa esa fxurh gSaA caxky] fcgkj vkSj mÙkj çns’k ds nf{k.kh Hkkxksa esa Hkh dqN xksaM tkfr;k¡ gSa tks fganw lekt dk vax cu xbZ gSaA xksaM tkfr;k¡ fganw tkrh; lekt ds çk;: fuEu Lrj ij fLFkr gSa vkSj dqN dh fxurh vNwrksa esa Hkh gksrh gSA xksaM yksx vius dks 12 tkfr;ksa esa foHkä ekurs gSaA fdarq mudh 50 ls vf/kd tkfr;k¡ gSa ftuesa Å¡p uhp dk HksnHkko Hkh gSAokLro esa xksaMksa dks ‘kq) :i esa ,d tutkfr dguk dfBu gSA buds fofHkUu lewg lH;rk ds fofHkUu Lrjksa ij gSa vkSj /keZ] Hkk”kk rFkk os’kHkw”kk laca/kh ,drk Hkh muesa ugha gS; u dksbZ ,slk tutkrh; laxBu gS tks lc xksaMksa dks ,drk ds lw= esa ck¡/krk gksA mnkgj.kkFkZ jktxksaM vius dks fganw vkSj {kf=; dgrs gSa rFkk mUgha dh Hkk¡fr jgrs gSaA vU; vusd lewg xksaMh Hkk”kk rFkk iqjkus tutkrh; /keZ dks NksM+ pqds gSaAxksaMh Hkk”kk eq[;r% 6 jkT;ksa esa cksyh tkrh gS ]e/;çns’k] NÙkhlx<+] egkj"Vª] rsyaxkuk] f'kekU/kzk] vksfM"kk xksaMh Hkk”kk dk bfrgkl

vkfnoklh xksaM dk bfrgkl mruk gh iqjkuk gS ftruk bl i`Foh &xzg ij euq”;] ijUrq fyf[kr bfrgkl ds çek.k ds vHkko esa [kkst dk fo”k; gSA ;gk¡ xksaM tutkfr ds çkphu fuokl ds {ks= esa vkfn ds ‘kk{; miyC/k gSA xksaM leqnk; æfo<+oxZ ds ekus tkrs gS] ftues tkrh O;LFkk ugh FkhA xgjs jax ds ;s yksx bl ns'k esa dksbZ ‡&ˆ gtkj o"kZ iwoZ ls fuokljr gSA ,d çek.k ds vk/kkj ij dgk tk ldrk gS dh xksaM tkrh dk lEcU/k flU/kq ?kVh dh lH;rk ls Hkh jgk gSA çkphu xksaMokuk dk uD'kk xksaMokuk jkuh nqxkZorh ds 'kkS;Z xkFkkvksa dks vkt Hkh xksaMh] gYch o Hkrjh yksdxhrksa esa cM+s xoZ ds lkFk x;k tkrk gSA vkt Hkh dbZ ikjaifjd mRloksa esa xksaMokuk jkT; ds fdLls dgkfu;ks dks cM+s pko ls lqudj muds oSHko'kkyh bfrgkl dh ijEijk dks ;kn fd;k tkrk gSA çkphu Hkwxksy'kkL= ds vuqllkj çkphu fo'o ds nks HkwHkkx dks xksaMokuk ySaM o vaxkjk ySaM ds uke ls tu tkrk gSA xksaMokuk ySaM vkfndky ls fuokljr xksaM tutkfr ds dkj.k tu tkrk Fkk] dkykarj esa xksaM tutkfr;ksa us fo'o ds fofHkUu fgLlksa esa vius&vius jkT; fodflr fd,] ftues ls ueZnk unh csflu ij fLFkr x<+eaMyk ,d çeq[k xksaMokuk jkT; jgk gSA jtk laxzke 'kkg bl lkezkT; ds ijkØeh jktkvksa esa ls ,d Fks] ftUgksaus vius ijkØe ds cy ij jkT; dk foLrkj o u,&u, fdyksa dk fuekZ.k fd;kA ƒ‡†ƒ esa jktk laxzke dh e`R;q i'pkr~ dqaoj nYiR'kkg us iwoZtksa ds vuq:i jkT; dh fo'kky lsuk esa btkQk djus ds lkFk&lkFk jkT; dk lqfu;ksftr :i ls foLrkj o fodkl fd;kA गोंडी भाषा गोंडवाना साम्राज्य की मातृभाषा है। गोंडी भाषा अति प्राचीन भाषा होने के कारन अनेक देशी -विदशी भाषाओं की जननी रही है। गोंडी धर्मं दर्शन के अनुसार गोंडी भाषा का निर्माण आराध्य देव शम्भू शेक के डमरू से हुई है, जिसे गोएन्दाधि वाणी या गोंदवानी कहा जाता है। अति प्राचीन भाषा होने की वजह से गोंडी भाषा अपने आप में पूरी तरह से पूर्ण है। गोंडी भाषा की अपनी लिपि है, व्याकरण है जिसे समय-समय पर गोंडी साहित्यकारों ने पुस्तकों के माध्यम से प्रकाशित किया है। गोंडवाना साम्राज्य के वंशजो को अपनी भाषा लिपि का ज्ञान होना अति आवश्यक है। भाषा समाज की माँ होती है, इसलिए इसे "मातृभाषा" के रूप में आदर भी दिया जाता है। गोंडीयन समाज की अपनी मातृभाषा गोंडी है, जिसे आदर और सम्मान से भविष्यनिधि के रूप में संचय करना चाहिए।गोंडों का प्रदेश गोंडवाना के नाम से भी प्रसिद्ध है जहाँ 15वीं तथा 17वीं शताब्दी के बीच गोंड राजवंशों के शासन स्थापित थे। किंतु गोंडों की छिटपुट आबादी समस्त मध्यप्रदेश में है। उड़ीसा, आंध्र और बिहार राज्यों में से प्रत्येक में दो से लेकर चार लाख तक गोंड हैं। असम के चाय बगीचोंवाले क्षेत्र में 50 हजार से अधिक गोंड आबाद हैं। इनके अतिरिक्त महाराष्ट्र और राजस्थान के कुछ क्षेत्रों में भी गोंड आबाद हैं। गोंडों की कुल आबादी 30 से 40 लाख के बीच आँकी जाती है, यद्यपि सन्‌ 1941 की जनगणना के अनुसार यह संख्या 25 लाख है। इसका कारण यह है कि अनेक गोंड जातियाँ अपने को हिंदू जातियों में गिनती हैं। बंगाल, बिहार और उत्तर प्रदेश के दक्षिणी भागों में भी कुछ गोंड जातियाँ हैं जो हिंदू समाज का अंग बन गई हैं। गोंड जातियाँ हिंदू जातीय समाज के प्राय: निम्न स्तर पर स्थित हैं और कुछ की गिनती अछूतों में भी होती है। गोंड लोग अपने को 12 जातियों में विभक्त मानते हैं। किंतु उनकी 50 से अधिक जातियाँ हैं जिनमें ऊँच नीच का भेदभाव भी है।वास्तव में गोंडों को शुद्ध रूप में एक जनजाति कहना कठिन है। इनके विभिन्न समूह सभ्यता के विभिन्न स्तरों पर हैं और धर्म, भाषा तथा वेशभूषा संबंधी एकता भी उनमें नहीं है; न कोई ऐसा जनजातीय संगठन है जो सब गोंडों को एकता के सूत्र में बाँधता हो। उदाहरणार्थ राजगोंड अपने को हिंदू और क्षत्रिय कहते हैं तथा उन्हीं की भाँति रहते हैं। अन्य अनेक समूह गोंडी भाषा तथा पुराने जनजातीय धर्म को छोड़ चुके हैं।गोंडी भाषा मुख्यतः 6 राज्यों में बोली जाती है ,मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, महारष्ट्र, तेलंगाना, शिमान्ध्रा, ओडिषा गोंडी भाषा का इतिहास

आदिवासी गोंड का इतिहास उतना ही पुराना है जितना इस पृथ्वी -ग्रह पर मनुष्य, परन्तु लिखित इतिहास के प्रमाण के अभाव में खोज का विषय है। यहाँ गोंड जनजाति के प्राचीन निवास के क्षेत्र में आदि के शाक्ष्य उपलब्ध है। गोंड समुदाय द्रविढ़वर्ग के माने जाते है, जिनमे जाती व्यस्था नही थी। गहरे रंग के ये लोग इस देश में कोई ५-६ हजार वर्ष पूर्व से निवासरत है। एक प्रमाण के आधार पर कहा जा सकता है की गोंड जाती का सम्बन्ध सिन्धु घटी की सभ्यता से भी रहा है।

प्राचीन गोंडवाना का नक्शा

गोंडवाना रानी दुर्गावती के शौर्य गाथाओं को आज भी गोंडी, हल्बी व भतरी लोकगीतों में बड़े गर्व के साथ गया जाता है। आज भी कई पारंपरिक उत्सवों में गोंडवाना राज्य के किस्से कहानियो को बड़े चाव से सुनकर उनके वैभवशाली इतिहास की परम्परा को याद किया जाता है। प्राचीन भूगोलशास्त्र के अनुससार प्राचीन विश्व के दो भूभाग को गोंडवाना लैंड व अंगारा लैंड के नाम से जन जाता है। गोंडवाना लैंड आदिकाल से निवासरत गोंड जनजाति के कारण जन जाता था, कालांतर में गोंड जनजातियों ने विश्व के विभिन्न हिस्सों में अपने-अपने राज्य विकसित किए, जिनमे से नर्मदा नदी बेसिन पर स्थित गढ़मंडला एक प्रमुख गोंडवाना राज्य रहा है। रजा संग्राम शाह इस साम्राज्य के पराक्रमी राजाओं में से एक थे, जिन्होंने अपने पराक्रम के बल पर राज्य का विस्तार व नए-नए किलों का निर्माण किया। १५४१ में राजा संग्राम की मृत्यु पश्चात् कुंवर दल्पत्शाह ने पूर्वजों के अनुरूप राज्य की विशाल सेना में इजाफा करने के साथ-साथ राज्य का सुनियोजित रूप से विस्तार व विकास किया।

Share This: