oukapy Loj% igys vkfnoklh taxy ls lCth ykrs Fks] vc cktkj ls ykrs gSa vkSj chekj iM+rs gSa—

ग्राम-पाडेनगा, तहसील-पखांजूर, जिला-कांकेर (छत्तीसगढ़) से नागेबाई गोंडी भाषा में बता रही हैं,पहले बस्तर के आदिवासी जंगलो से सब्जी ढूढ कर खाते थे|अभी के आदिवासी हर घर में सब्जी ख़त्म होने से सब्जी के लिए बाजारों में जा कर केमिकल सब्जी ख़रीद कर खा रहे हैं इसलिए अभी के लोगों को जल्दी बीमार पकड़ता हैं,और ज्यादा उम्र तक भी नहीं रह पाते. जंगलो में पाए जाने वाले सब्जिया: बांस की बस्ता,चरोटा बाजी,कोल्यारी बाजी, पहले के आदिवासी ये सब खा के अच्छे रहते थे, लेकिन अब सभी लोगों की खान पान में बदलाव आ गया है.बाजार से लाकर खाते है,पहले के लोग गोबर खाद बनाकर खेतो के लिए इस्तेमाल करते थे,और अभी दुकानों में पाए जाने वाले खाद का इस्तेमाल करते है-जिसके कारण लोग बीमार पड़ जाते है…

xzke&ikMsuxk] rglhy&i[kkatwj] ftyk&dkadsj ¼NÙkhlx<+½ ls ukxsckbZ xksaMh Hkk”kk esa crk jgh gSa]igys cLrj ds vkfnoklh taxyks ls lCth <w< dj [kkrs Fks|vHkh ds vkfnoklh gj ?kj esa lCth [kRe gksus ls lCth ds fy, cktkjksa esa tk dj dsfedy lCth [kjhn dj [kk jgs gSa blfy, vHkh ds yksxksa dks tYnh chekj idM+rk gSa]vkSj T;knk mez rd Hkh ugha jg ikrs- taxyks esa ik, tkus okys lfCt;k% ckal dh cLrk]pjksVk ckth]dksY;kjh ckth] igys ds vkfnoklh ;s lc [kk ds vPNs jgrs Fks] ysfdu vc lHkh yksxksa dh [kku iku esa cnyko vk x;k gS-cktkj ls ykdj [kkrs gS]igys ds yksx xkscj [kkn cukdj [ksrks ds fy, bLrseky djrs Fks]vkSj vHkh nqdkuksa esa ik, tkus okys [kkn dk bLrseky djrs gS&ftlds dkj.k yksx chekj iM+ tkrs gS—

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *