dksejk Hkkb;ksa dks tksy dksejk D;ksa dgrs gSa— xksaMh dgkuh

कोमरा भाइयों को जोल कोमरा क्यों कहते हैं… गोंडी कहानी
उतर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़) से नेमा लाल कोमरा गोंडी में बता रहे हैं कोमरा भाइयों को जोल कोमरा क्यों कहते हैं ? देव परमाहमुदिया बाबा जिसे धरती का राजा भी कहा जाता हैं, अपने सुपुत्री हलियाल कुवारी को दमांद उसेह्मुदिया को शादी उपरांत आशीर्वाद स्वरूप जो शब्द बोले कि घर के हर पाटी में झुलना झूले यह आशीष दिये और वास्तव में वही सत्य हुआ ,बच्चे हर पाटी में झुलना लगाने की जरूरत पड़ गई जिन्हें संभालना मुश्किल हो रहा था,झुलना झूलाने वाले लोग भी परेशान होकर रुलाने का काम करते थे,ये सब देखते हुए उसेह्मुदिया की पत्नी हलियाल डोकरी ने सोची और अपने पिताजी के पास चली गई और अपनी समस्या बताई तो परमाह देव ने कोवा पुत्र को अपने दीदी के साथ जाने के लिए कहा तो सम्मान भेजा गया और चले गये, जाने के बाद हलियाल डोकरी ने अपने भाई का नाम बदल दी. कोवा से कोमरा हर जगह बताई. भाई ने अपने दीदी के बाल -बच्चे की सेवा में सवैद तत्पर रहे कोमरा का काम केवल दीदी के बच्चो का झुलना झुलाना किस तो ज़माने से करते आये इसी झूला झुलाने का काम के अनुसार कोमरा भाईयों को गोंडी भाषा में जोल कोमरा के नाम से जाना जाता हैं

dksejk Hkkb;ksa dks tksy dksejk D;ksa dgrs gSa— xksaMh dgkuh
mrj cLrj dkadsj ¼NÙkhlx<+½ ls usek yky dksejk xksaMh esa crk jgs gSa dksejk Hkkb;ksa dks tksy dksejk D;ksa dgrs gSa \ nso ijekgeqfn;k ckck ftls /kjrh dk jktk Hkh dgk tkrk gSa] vius lqiq=h gfy;ky dqokjh dks nekan mlsãqfn;k dks ‘kknh mijkar vk’khokZn Lo:i tks ‘kCn cksys fd ?kj ds gj ikVh esa >qyuk >wys ;g vk’kh”k fn;s vkSj okLro esa ogh lR; gqvk ]cPps gj ikVh esa >qyuk yxkus dh t:jr iM+ xbZ ftUgsa laHkkyuk eqf’dy gks jgk Fkk]>qyuk >wykus okys yksx Hkh ijs’kku gksdj #ykus dk dke djrs Fks];s lc ns[krs gq, mlsãqfn;k dh iRuh gfy;ky Mksdjh us lksph vkSj vius firkth ds ikl pyh xbZ vkSj viuh leL;k crkbZ rks ijekg nso us dksok iq= dks vius nhnh ds lkFk tkus ds fy, dgk rks lEeku Hkstk x;k vkSj pys x;s] tkus ds ckn gfy;ky Mksdjh us vius HkkbZ dk uke cny nh- dksok ls dksejk gj txg crkbZ- HkkbZ us vius nhnh ds cky &cPps dh lsok esa loSn rRij jgs dksejk dk dke dsoy nhnh ds cPpks dk >qyuk >qykuk fdl rks tekus ls djrs vk;s blh >wyk >qykus dk dke ds vuqlkj dksejk HkkbZ;ksa dks xksaMh Hkk”kk esa tksy dksejk ds uke ls tkuk tkrk gSa

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *