esa

ग्राम-मेंढालेखा, जिला-गढ़चिरोली (महाराष्ट्र) से उतम आतला गाँव के निवासी देवा जी तोफा से गोंडी भाषा में चर्चा कर रहे हैं, वे बता रहे हैं, ग्राम सभा का जो अधिकार हमें मिला है, 5 अनुसूची, उसमे जो हमारे जीवन जीने की पद्धति, संस्कृति, समाज व्यवस्था, न्याय व्यवस्था है, उसे सोच समझ कर चला रहे है, उनके अनुसार जो जल-जंगल, जमीन है, वह शासन का नही बल्की वहां के रहने वाले लोगो का है, चाहे वो आदिवासी हो या गैर आदिवासी हो और उसे किसी से मांगने की जरूरत नही है, आज इस बात को युवा पीढ़ी को समझना जरुरत है, वह इसे ग्राम सभा के माध्यम से सर्व सम्मति से मिल कर चला रहे हैं|

xzke&esa<kys[kk] ftyk&x<+fpjksyh ¼egkjk”Vª½ ls mre vkryk xk¡o ds fuoklh nsok th rksQk ls xksaMh Hkk”kk esa ppkZ dj jgs gSa] os crk jgs gSa] xzke lHkk dk tks vf/kdkj gesa feyk gS] 5 vuqlwph] mles tks gekjs thou thus dh i)fr] laL—fr] lekt O;oLFkk] U;k; O;oLFkk gS] mls lksp le> dj pyk jgs gS] muds vuqlkj tks ty&taxy] tehu gS] og ‘kklu dk ugh cYdh ogka ds jgus okys yksxks dk gS] pkgs oks vkfnoklh gks ;k xSj vkfnoklh gks vkSj mls fdlh ls ekaxus dh t:jr ugh gS] vkt bl ckr dks ;qok ih<+h dks le>uk t#jr gS] og bls xzke lHkk ds ek/;e ls loZ lEefr ls fey dj pyk jgs gSa|

 

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *