dksड़k dksyk Fks gs gs gs gs gs gs—xksaMh fookg xhr

xk¡o fparqj ftyk [kEee vka/kz çns’k ls rqjeZ lR;ukjk;u th us ;g ,d xksaMh xhr xk;k gS vkfnokfl;ks ds ‘kkfn;ksa ds le; esa bl xhr dks xk;k tkrk gS
dksड़k dksyk Fks gs gs gs gs gs gs
dks;rh vrds ehj dqjZrh;s ekys eksxk
fe:Z dqnZ dst vEek fe:Z uhek dqjZ~n dst
vEek jsyk js js js js yk v v v v

गाँव चिंतुर जिला खम्मम आंध्र प्रदेश से तुरर्म सत्यनारायन जी ने यह एक गोंडी गीत गाया है आदिवासियो के शादियों के समय में इस गीत को गाया जाता है
कोड़ा कोला थे हे हे हे हे हे हे
कोयती अतके मीर कुर्रतीये माले मोगा
मिर्रू कुर्द केज अम्मा मिर्रू नीमा कुर्र्द केज
अम्मा रेला रे रे रे रे ला अ अ अ अ

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *