All posts by admin

jh&jh yks jh jh yks;ks] nknk >syk vk>h jks; nknk ys—xksaMh xhr

ग्राम-पाड़ेंगा, तहसील-पखांजूर, जिला-उत्तर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़) से मानकोबाई, गीता उसेण्डी, नगेबाई जनेबाई और सोनीबाई गोंडी भाषा में एक गीत सुना रहे है:
री-री लोयो री-री लोयो हेला-
दादा झेला आझी रोय दादा ले-
री री लोयो री री लो-
काड़ी इन्जोरे येलो ले-
मुने दुनियां ता पाटा-
काड़ी इन्जोरे येलो ले-
मुने दुनिया ता पाटा-
आदे पाटा ये ओइ हलेन…

xzke&ikM+saxk] rglhy&i[kkatwj] ftyk&mÙkj cLrj dkadsj ¼NÙkhlx<+½ ls ekudksckbZ] xhrk mls.Mh] uxsckbZ tusckbZ vkSj lksuhckbZ xksaMh Hkk”kk esa ,d xhr lquk jgs gS%
jh&jh yks;ks jh&jh yks;ks gsyk&
nknk >syk vk>h jks; nknk ys&
jh jh yks;ks jh jh yks&
dkM+h bUtksjs ;syks ys&
equs nqfu;ka rk ikVk&
dkM+h bUtksjs ;syks ys&
equs nqfu;k rk ikVk&
vkns ikVk ;s vksb gysu—

Share This:

gekjs xk¡o dk uke rkMoSyh dSls iM+k% ,d xk¡o dh dgkuh ¼ xksaMh Hkk”kk esa ½

सीजीनेट जन पत्रकारिता जागरूकता यात्रा आज ग्राम पंचायत-ताडवैली, ब्लॉक-कोयलीबेडा, जिला-उत्तर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़) में पहुँची है वहां मोहन यादव की मुलाक़ात गाँव के बुज़ुर्ग कन्ना राम वड्डे से हुई है जो उन्हें गोंडी भाषा में उनके ताडवैली गाँव के नाम की कहानी बता रहे हैं कि उनके गाँव का यह नाम कैसे पड़ा: वे बता रहे हैं ये गाँव राजा समय का गाव है परालकोट परगना में एक राजा रहते थे- राजा की मदद से यहाँ पर बड़ा सा तालाब बना जिसे गोंडी में तड़ाई
कहते हैं फिर उसके बाद इसलिए इस गाँव का नाम ताडवैली पड़ा- इसी प्रकार यहां के पेड़ पौधो- व्यक्ति या जानवर आदि पर गाँवों के नाम रखे गए हैं जिनके बारे में गाँव के बुज़ुर्ग ही जानते हैं

lhthusV tu i=dkfjrk tkx:drk ;k=k vkt xzke iapk;r&rkMoSyh] Cy‚d&dks;yhcsMk] ftyk&mÙkj cLrj dkadsj ¼NÙkhlx<+½ esa igq¡ph gS ogka eksgu ;kno dh eqykdkr xk¡o ds cqtqxZ dUuk jke oìs ls gqbZ gS tks mUgsa xksaMh Hkk”kk esa muds rkMoSyh xk¡o ds uke dh dgkuh crk jgs gSa fd muds xk¡o dk ;g uke dSls iM+k% os crk jgs gSa ;s xk¡o jktk le; dk xko gS ijkydksV ijxuk esa ,d jktk jgrs Fks& jktk dh enn ls ;gk¡ ij cM+k lk rkykc cuk ftls xksaMh esa rM+kbZ
dgrs gSa fQj mlds ckn blfy, bl xk¡o dk uke rkMoSyh iM+k& blh çdkj ;gka ds isM+ ikS/kks& O;fä ;k tkuoj vkfn ij xk¡oksa ds uke j[ks x, gSa ftuds ckjs esa xk¡o ds cqtqxZ gh tkurs gSa

Share This:

lq lk; js js js y;ksa js js jsyk jsyk jsyk lq lk;—xksaMh ‘kknh xhr—

ग्राम पंचायत-पाढेगा, तहसील-पखांजूर, जिला-कांकेर (छत्तीसगढ़ ) से रानो वड्डे के साथ गाँव की ग्रामीण महिलाएं है जो आदिवासी शादी में गाये जाने वाला गीत सुना रहे हैं:
सु साय रे रे रे लयों रे रे रेला रेला रेला सु साय-
रे रे रे लयों रे रे रेला रेला रेला येलो सु साय-
जाति बाति पेकोड येलो सु साय येलो जाति बाति
पेकोड येलो सु साय-
सु साय जाति कन्या पेकोड येलो सु साय
जाति कन्या पेकोड येलो सु साय…

xzke iapk;r&ik<sxk] rglhy&i[kkatwj] ftyk&dkadsj ¼NÙkhlx<+ ½ ls jkuks oìs ds lkFk xk¡o dh xzkeh.k efgyk,a gS tks vkfnoklh ‘kknh esa xk;s tkus okyk xhr lquk jgs gSa%
lq lk; js js js y;ksa js js jsyk jsyk jsyk lq lk;&
js js js y;ksa js js jsyk jsyk jsyk ;syks lq lk;&
tkfr ckfr isdksM ;syks lq lk; ;syks tkfr ckfr
isdksM ;syks lq lk;&
lq lk; tkfr dU;k isdksM ;syks lq lk;
tkfr dU;k isdksM ;syks lq lk;—

Share This:

fu ok;us xksVqy reks ys fu; ok;us xksVqy jks xksVqy reks ys-xksaMh fookg xhr

ग्राम-तोडरुर, विकासखंड-कोयलीबेड़ा, जिला-उत्तर बस्तर कांकेर (छत्तीसगढ़ ) से कविता कोरचे अपनी सहेलियों के साथ गोंडी भाषा में शादी गीत सुना रहे हैं यह गीत जब लड़का और लड़की को गोटुल के मंडप में नाचते हुए ले जाया जाता है तब गाते हैं:
रे रे रे ला रे रे रे रेला रे रे लयों रे रे रेला रे रे रे रेला-
नि वायने गोटुल तमो ले निय वायने गोटुल रो गोटुल तमो ले-
सिलुड़े पलुड घुती ये सिलुड़े पलुड घुती ये घुती तमो ले-
गोटुल इमो किकी तमो ले गोटुल इमो किकी रो किकी तमो रे-
सिलुड़े पलुड घुती ये सिलुड़े पलुड घुती ये घुती तमो ले-
गोटुल खुदेम आन्दी तमो ले गोटुल खुदेम आन्दी रो आन्दी तमो ले-
सिलुड़े पलुड घुती ये सिलुड़े पलुड घुती ये घुती तमो ले …

xzke&rksM#j] fodkl[kaM&dks;yhcsM+k] ftyk&mÙkj cLrj dkadsj ¼NÙkhlx<+ ½ ls dfork dksjps viuh lgsfy;ksa ds lkFk xksaMh Hkk”kk esa ‘kknh xhr lquk jgs gSa ;g xhr tc yM+dk vkSj yM+dh dks xksVqy ds eaMi esa ukprs gq, ys tk;k tkrk gS rc xkrs gSa%
js js js yk js js js jsyk js js y;ksa js js jsyk js js js jsyk&
fu ok;us xksVqy reks ys fu; ok;us xksVqy jks xksVqy reks ys&
flyqM+s iyqM ?kqrh ;s flyqM+s iyqM ?kqrh ;s ?kqrh reks ys&
xksVqy beks fddh reks ys xksVqy beks fddh jks fddh reks js&
flyqM+s iyqM ?kqrh ;s flyqM+s iyqM ?kqrh ;s ?kqrh reks ys&
xksVqy [kqnse vkUnh reks ys xksVqy [kqnse vkUnh jks vkUnh reks ys&
flyqM+s iyqM ?kqrh ;s flyqM+s iyqM ?kqrh ;s ?kqrh reks ys —

Share This:

oukapy Loj% igys vkfnoklh taxy ls lCth ykrs Fks] vc cktkj ls ykrs gSa vkSj chekj iM+rs gSa—

ग्राम-पाडेनगा, तहसील-पखांजूर, जिला-कांकेर (छत्तीसगढ़) से नागेबाई गोंडी भाषा में बता रही हैं,पहले बस्तर के आदिवासी जंगलो से सब्जी ढूढ कर खाते थे|अभी के आदिवासी हर घर में सब्जी ख़त्म होने से सब्जी के लिए बाजारों में जा कर केमिकल सब्जी ख़रीद कर खा रहे हैं इसलिए अभी के लोगों को जल्दी बीमार पकड़ता हैं,और ज्यादा उम्र तक भी नहीं रह पाते. जंगलो में पाए जाने वाले सब्जिया: बांस की बस्ता,चरोटा बाजी,कोल्यारी बाजी, पहले के आदिवासी ये सब खा के अच्छे रहते थे, लेकिन अब सभी लोगों की खान पान में बदलाव आ गया है.बाजार से लाकर खाते है,पहले के लोग गोबर खाद बनाकर खेतो के लिए इस्तेमाल करते थे,और अभी दुकानों में पाए जाने वाले खाद का इस्तेमाल करते है-जिसके कारण लोग बीमार पड़ जाते है…

xzke&ikMsuxk] rglhy&i[kkatwj] ftyk&dkadsj ¼NÙkhlx<+½ ls ukxsckbZ xksaMh Hkk”kk esa crk jgh gSa]igys cLrj ds vkfnoklh taxyks ls lCth <w< dj [kkrs Fks|vHkh ds vkfnoklh gj ?kj esa lCth [kRe gksus ls lCth ds fy, cktkjksa esa tk dj dsfedy lCth [kjhn dj [kk jgs gSa blfy, vHkh ds yksxksa dks tYnh chekj idM+rk gSa]vkSj T;knk mez rd Hkh ugha jg ikrs- taxyks esa ik, tkus okys lfCt;k% ckal dh cLrk]pjksVk ckth]dksY;kjh ckth] igys ds vkfnoklh ;s lc [kk ds vPNs jgrs Fks] ysfdu vc lHkh yksxksa dh [kku iku esa cnyko vk x;k gS-cktkj ls ykdj [kkrs gS]igys ds yksx xkscj [kkn cukdj [ksrks ds fy, bLrseky djrs Fks]vkSj vHkh nqdkuksa esa ik, tkus okys [kkn dk bLrseky djrs gS&ftlds dkj.k yksx chekj iM+ tkrs gS—

Share This: